Monday, May 13, 2019

आयुर्वेद और केसर का रिश्ता। Benefits of Saffron according to ayurved.

आयुर्वेद के अनुसार केसर और स्वास्थ में रिश्ता Ayurveda and Saffron:

स्वास्थ्य को मिलने वाले केसर के फायदे तो आप ज़रूर जानते होंगे। दूध में केसर डालकर पीना काफी अच्छा होता है, खासतौर से गर्भवती महिलाओं के लिए। यह एक कामशक्ति बढ़ाने वाला रसायन है। महिलाओं की कुछ बीमारियों में यह रामबाण साबित होता है। 


बच्चे के जन्म के बाद गर्भाशय की सफाई के लिए कुछ दिनों तक इसका नियमित सेवन करना बहुत अच्छा रहता है। केसर को सभी मसालों का राजा कहा जाता है। इसे सैफ्रॉन या जाफरान के नाम से भी जानते हैं। यह दुनियाभर में सबसे कीमती मसालों में से एक है। यह कई फ्लेवर में पाया जाता है और स्वास्थ्य के लिए काफी लाभकारी होता है। क्योंकि केसर सौंदर्य निखारने में सहयोगी है, इसलिए सुंदर एवं गोरे बच्चे को पाने के लिए गर्भवती महिलाएं अपने आहार में केसर को शामिल करने की कोशिश करती हैं।


केसर इतना महंगा क्यों Why Saffron too costly?

यह हमेशा मुद्दा होता है कि यह इतना महंगा क्यों , इसका कारण इसके उत्पादन में मौसम की बाध्यता सबसे  मुख्य है।मगर ऐसी क्या बात है इस केसर में जो यह इतना महंगा है इसके अन्य भी कारण है जैसे खाद्य पदार्थ तो और भी कई हैं जो हमें काफी फायदा देते हैं। 



केसर का अनूठा स्वाद इसमें मौजूद केमिकल कंपाउंड पिक्रोक्रोकिन और सैफ्रानाल के कारण होता है इसलिए इसके अनोखे स्वाद की वजह से केसर का उपयोग दुनियाभर के कई पाक व्यंजनों में किया जाता है। केसर के इतना महंगा होने की क्या वजह है? इसके पीछे छिपा है एक ऐसा इतिहास जिसके बारे में काफी कम लोग जानते हैं। रोजाना थोड़ी मात्रा में केसर लेने से शरीर में कई प्रकार के रोग नहीं होते हैं। 

केसर के फायदे Benefits of Saffron:


१) अगर ज्यादा सर्दी-खांसी हो रही हो तो केसर दी जाती है क्योंकि ये कफ का नाश करने वाली औषधि है। शिशुओं को अगर सर्दी जकड़ ले और नाक बंद हो जाये तो मां के दूध में केसर मिलाकर उसके माथे और नाक पर मला जाये तो सर्दी का प्रकोप कम होता है और उसे आराम मिलता है। 



२) रात को सोने से पहले दूध में केसर डालकर पीने से अनिद्रा की शिकायत दूर होती है। अनिद्रा की शिकायत को दूर करने में भी केसर काफी उपयोगी होता है। इसके साथ ही यह अवसाद को भी दूर करने में मदद करता है। 



३) केसर की एक विशेष किस्म गठिया या वात रोग में राहत प्रदान करती है। केसर में पाये जाने वाला क्रोसेटिन मस्तिष्क में ऑक्सीजेनेशन को बढ़ाता है जिसके परिणामस्वरूप अर्थराइटिस के इलाज में काफी आसानी हो जाती है। 



४) सिर दर्द को दूर करने के लिए केसर का उपयोग किया जा सकता है। सिर दर्द होने पर चंदन और केसर को मिलाकर सिर पर इसका लेप लगाने से सिर दर्द में राहत मिलती है।

५) महिलाओं की कई शिकायतें जैसे - मासिक चक्र में अनियमिता, गर्भाशय की सूजन, मासिक चक्र के समय दर्द होने जैसी समस्याओं में केसर का सेवन करने से आराम मिलता है।



६) त्वचा को निखारने और सुन्दर बनाने के भी गुण केसर में पाए जाते है। महिलाएं अगर इसका सही तरीके से और सही मात्रा में सेवन करें तो त्वचा सुन्दर लगने लगती है। 

७) केसर और दूध का मिलाप बहुत प्रचलित तथा काफी चर्चित है, यह कई तरह की शारीरिक परेशानियां तो दूर करता ही है। साथ ही हमें ऊर्जा भी देता है, ताकि अनचाही छोटी-छोटी बीमारियों से बचा जा सके।

८) पुरूषों में वीर्य शक्ति बढ़ाने हेतु शहद, बादाम और केसर लेने से फायदा होता है। पेट संबंधित बीमारियों के इलाज में केसर बहुत फायदेमंद है। 





0 comments:

Post a Comment