Wednesday, April 10, 2019

हिन्दू धर्म की को परम्पराए जिनके प्रभाव को आयुर्वेद और विज्ञान भी मानता है। Hindu Traditions Scientific effects.

हिन्दू या भारतीय परंपरा जिनके महत्व विज्ञान और आयुर्वेद भी सिद्ध करता है:

कई हिन्दू भारतीय परंपराओं के विशेष प्रभाव है जिनको आयुर्वेद एवं आधुनिक विज्ञान भी सिद्ध करता है। इन परंपराओं को अज्ञानतावश कई विरोधी और विदेशी लोग पिछड़ापन और आडंबर बताते थे आज वही उनकी विशेषता जानकर सर्मिन्दा होते है। हमे उन्ही पारंपरिक विधियों  का पालन करना चाहिए एवं आने वाली पीढ़ी को उसका मतत्व समझाना चाहिए।

यहां कुछ हिन्दू परंपराये है जिनका वैज्ञानिक तर्क है, और आयुर्वेद भी इनके महत्त्व की विवेचना करता है:


१) नमस्ते करना:

हाथ जोड़कर नमस्कार करना हमारी संस्कृति का महत्वपूर्ण माध्यम है मिलने जुलने का, जब हम हाथ जोड़कर नमस्कार करते है तो उंगलियों के एक दूसरे पर दवाव होता है जिशसे चेहरे, मस्तिष्क और आंखों पर सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है। साथ साथ दूसरे से हाँथ न मिलने के कारण हम दूसरे के संपर्क में नही आते और वैक्टीरिया, वायरस का संचार नही हो पाता है।

२) तिलक लगाना

मस्तक पर तिलक लगाने से आंखों के मध्य की नस में दवाब होता है जिनसे मस्तिष्क में रक्त का संचार संतुलन में रहता है। साथ ही चेहरे की मांसपेशियों में रक्त एवं ऊर्जा का संचार बना रहता है। यही कारण है कि मांगलिक कार्यक्रमो के साथ साथ तिलक धारण की प्रथा हमेसा से चली आ रही है।



३) जमीन पर बैठकर भोजन करना

जमीन में बैठकर भोजन करना एक तरह का योग होता है, जिससे पाचन क्रिया मजबूत रहती है और साथ ही दिमाग शांत रहता है।
इसी कारण जमीन में पल्थी मार कर बैठकर भोजन करना उत्तम माना गया है।



४) सिर पर शिखा(चोटी) रखने की प्रथा

सिर पर शिखा या चोटी रखने का प्रावधान हमारे समाज मे बहुत पहले से होता आ रहा है, इसका वैज्ञानिक प्रभाव वहुत अहम है। इसी स्थान पर मस्तिस्क की समस्त तन्तिकाये इकट्ठा होती है अतः शिखा रखने पर मस्तिष्क को शांत और एकाग्रचित्त रखने में मदत मिलती है।



५) व्रत या उपवास रखने की प्रथा

व्रत या उपवास रखना हमारी प्राचीन परम्परा है। यह पाचनतंत्र के लिए बहुत उत्तम होता है, कब्ज को खत्म करने में मदत मिलती है। साथ ही कई सोधो से पता चला है कि ये कैंसर जैसी बीमारियों से बचाव में मदत करता है। क्योंकि कैंसर की कोशिकाऐ अधिक समय तक भोजन न मिलने से खत्म हो जाती है।





0 comments:

Post a Comment