Wednesday, March 27, 2019

पेट मे गैस की समस्या: कारण और उपचार। Gastric problem: Cause and home treatment.

क्या आपको पेट मे गैस की समस्या रहती है Do you have Gastric problem ?

अनियमित दिनचर्या आजकल की कई बीमारियों का मुख्य कारण है, इसी के कारण पेट मे गैस की समस्या होती है। पेट की ज्यादातर बीमारियों में गैस की समस्या सबसे आम है, जो ज्यादातर लोगों को होती है। अत्यधिक फास्टफूड का सेवन, शिफ्ट की नौकरी और चिंता से हमारे पाचनतंत्र में बहुत बुरा असर होता है जिससे एसिडिटी और गैस की समस्या उत्पन्न होती है। कभी यह आपके भूखे रहने या गलत खानपान के कारण होती है, तो कभी कुछ अन्य कारण भी इसके लिए जिम्मेदार होते हैं। 


गैस की समस्या के कारण Cause of Gastric problem:


यह किसी भी उम्र के इंसान में होना आम है, छोटी उम्र से लेकर युवाओं और बुजुर्गों में भी पेट मे अम्ल की अधिकता के कारण गैस की समस्या हो सकती है। गैस के मुख्य कारण इस प्रकार है:



१) आयुर्वेद के अनुसार गैस बनने का प्रमुख कारण पेट में अधिक अम्ल का निर्माण होता है, अतः इसे पित्त के असंतुलन कर होने के कारण माना गया है। इसके अलावा अत्यधिक भोजन करना, मानसिक चिंता, ऐसा भोजन जो पचने में कठि‍न हो, शराब पीना, और भोजन को ठीक तरीके से चबाकर न खाने से भी पेट में गैस बनती है।  

२) कई बार कुछ बीमारियों के कारण भी गैस की समस्या हो जाती है , जैसे वायरल फीवर, किसी प्रकार का इंफेकशन, पथरी, ट्यूमर, अल्सर आदि के कारण।

३) कई बार कुछ बैक्टीरिया प्रभाव करती है जिनके कारण भी यह गैस की समस्या हो सकती है जिसमें खास तौर से उल्टी, दस्त, पेट में जलन और अपच की समस्याएं सामले आती हैं।

४)  तीखा या चटपटा भोजन भी इसका एक प्रमुख कारण है, इसके अलावा एसिडिटी, बदहजमी, फूड पॉइजनिंग,कब्ज और कुछ विशेष दवाओं के सेवन से भी गैस बनने की समस्या हो जाती है। 

पेट मे गैस की समस्या का घरेलू उपाय Home Remedies of gastric problem:


सामान्य अवस्था मे इसे आसानी से घरेलू उपाय के द्वारा इससे बचा जा सकता है, परंतु अगर समस्या अधिक है या लंबे समय से है तो किसी डॉक्टर से परामर्श जरूर ले। साथ मे निम्न उपायों से भी लाभ होता है:



१) पेट में गैस होने पर भोजन में मूंग, चना, मटर, अरहर, आलू, सेम, चावल, तथा तेज मिर्च मसाले युक्त आहार अधिक मात्रा में सेवन न करें। 

२) आसानी से पचने वाले भोजन जैसे सब्जियां, खिचड़ी, चोकर सहित बनी आटे की रोटी, दूध, तोरई, कद्दू, पालक, टिंडा, शलजम, अदरक, आंवला, नींबू आदि का इस्तेमाल अधिक करना चाहिए। 

३) स्ट्रेस, बैचेन, डर, चिंता, गुस्से के कारण डाइजेशन पार्ट्स के जरूरी पाचक रसों का स्राव कम हो जाता है, जिससे अपच की समस्या हो जाती है और अपच के कारण ही पेट में गैस बनती है।

४) खाने के पश्चात एक ग्लास छांछ या मठ्ठे में अजवाइन और काला नमक डालकर सेवन करने से आराम मिलता है।

५) हमेशा खाने को अच्छे से चवा चवा कर खाने से पाचनतंत्र ठीक रहता है तथा पेट मे गैस और एसिडिटी की समस्या से आराम मिलता है।




0 comments:

Post a Comment