Monday, January 28, 2019

बर्ड फ्लू के कारण, लक्षण और उपचार। Cause and Symptoms of Bird Flu in Hindi.

क्या होता है बर्ड फ्लू:

1990 के दशक में, बर्ड फ्लू एक नई बीमारी के रूप में उत्पन्न हुआ, जो गंभीर बीमारी और मृत्यु की छमता रखता था। बर्ड फ्लू (एवियन इन्फ्लूएंजा) एक बीमारी है जो इन्फ्लूएंजा वायरस और इसी तरह के वायरस के कारण होती है, जो मुख्य रूप से पक्षियों को प्रभावित करती है। विशेष रूप से पालतू पक्षियों जैसे बतख, मुर्गियों में। नतीजतन, इस वायरस को अत्यधिक रोगजनक माना गया क्योंकि यह बहुत गंभीर संक्रामक है। इसे एवियन इन्फ्लूएंजा और एच 5 एन 1 कहा जाता है।

बर्ड फ्लू किन कारणों से होता है?

बर्ड फ्लू इन्फ्लूएंजा वायरस के प्रभाव के कारण होता है, इन्फ्लूएंजा के तीन मुख्य प्रकार हैं: ए, बी, और सी। जो वायरस बर्ड फ्लू का कारण बनता है उसे इन्फ्लूएंजा कहते है। यह सीमित संख्या में जानवरों में रहना पसंद करते हैं। स्वाइन फ्लू मुख्य रूप से स्वाइन को संक्रमित करता है, और बर्ड फ्लू मुख्य रूप से पक्षियों को संक्रमित करता है। इन्फ्लूएंजा को मनुष्यों के लिए सर्वोत्तम रूप से अनुकूलित होता है। बीमार पक्षियों के साथ संपर्क रखने वाले लोगों को बर्ड फ्लू हो जाता है।

बर्ड फ्लू के लक्षण:


औसतन दो से आठ दिन के बाद लक्षण दिखाई देते हैं। संक्रमित लोग जिन लक्षणों का अनुभव करते हैं वे हो सकते हैं
१) तेज बुखार
२) उल्टी
३) सरदर्द
४) जोड़ो में दर्द
५) मचली
६) चक्कर आना
७) लाल चक्कते होना
८) लगातार खांसी
९) नाक बहना
१०) दिखाई देने में परेसानी


चिकित्सक बर्ड फ्लू का निदान कैसे करते हैं?

बर्ड फ्लू के बचाव हेतु कई शोध के कार्यक्रम चल रहे है, ताकि इससे निजाद पाई जा सके। संयुक्त राष्ट्र संघ भी इसके लिए कई कार्यक्रम चला रहा है साथ ही सभी देशों में स्वास्थ्य कार्यक्रम को चलाया जा रहा है।
अगर लक्षण का पता चले तो तुरंत अस्पताल में पहुँचना चाहिए, बलगम से इसकी जांच की जाती है, और समय से इलाज मिलने पर रोकथाम होती है।


तो दोस्तो आपको यह जानकारी कैसी लगी अपने सुझाव दे।

0 comments:

Post a Comment