Tuesday, December 25, 2018

विटामिन डी कि कमी का प्रभाव। Vitamin D deficiency.

तेजी से बढ़ती विटामिन डी की कमी और प्रभाव:

विटामिन डी तंत्रिका तंत्र की कार्य प्रणाली और हड्डियों की मजबूती के लिए जरूरी है, भोजन से कैल्शियम को सोखकर हड्डियों तक पहुचाता है विटामिन डी हमारे संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए जरूरी है। यह शरीर में कैल्शियम के स्तर को नियंत्रित करने का काम करता है, यह शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है। 

विटामिन डी कि कमी के लक्षण एवं प्रभाव

विटामिन डी के लक्षण एकदम उभर कर सामने नहीं आते, इसी वजह से लोगों को समय पर विटामिन डी की कमी से होने वाले रोगों का पता ही नहीं चल पाता।परन्तु विटामिन डी की कमी से भोजन का कैल्शियम और फॉस्फोरस सोख नही पता जिसके कारण हड्डिया और दांतों में कैल्शियम की कमी हो जाती है और वो कमजोर हो जाते है, साथ ही कई सोधो से पता चला है कि विटामिन डी कि कमी से गम्भीर बीमारिया भी होती है।
विटामिन डी की कमी से मोटापा , और स्किन में डार्कनेस की समस्या हो सकती है।
साथ ही आर्थराइटिस , जोड़ो में दर्द और बात जैसी समश्या होती है

कैसे दूर करे विटामिन डी की कमी

सूर्य की रोशनी:

सूरज की किरणें विटामिन डी का सबसे अच्छा स्रोत है, तो सर्दियों के दिनों में ज्यादा से ज्यादा सूर्य की रोशनी में रहने की कोशिश करे क्योकि सर्दियों में समश्या ज्यादा बढ़ती है।


विटामिन डी युक्त भोजन:


वेजिटेरियन लोगो के लिए बहुत लिमिटिड ऑप्शन है दूध या दूध से बनी प्रोडक्ट
 चीज, सोया मिल्क , सॉस।









नॉन वेजिटेरियन के लिए मांस , मछली और अंडे अच्छे स्रोत है।


















तो दोस्तो आपको ये जानकारी कैसी लगी कृपया कॉमेंट करे और शेयर करे।


0 comments:

Post a Comment