Saturday, December 29, 2018

डायबिटीज के कारण , लक्षण और घरेलू उपाय। Home remedies for "Diabetes"


डायबिटीज 


डायबटीज या मधुमेह बीमारियों का एक समूह है जिसमें लंबे समय तक शुगर का स्तर हाई  होता है। 
हाई शुगर लेवल के लक्षणों में अक्सर पेशाब और प्यास की बढ़ोतरी होती है, साथ ही साथ भूख में भी वृद्धि होती है।  मधुमेह कई समश्याओं का कारण बन सकता है।  बड़ी समश्यायो में मधुमेह केटोएसिडोसिस, नॉनकेटोटिक हाइपरोस्मोलर कोमा, या मौत शामिल हो सकती है। दोस्तों आज कल हर तीसरा व्यक्ति डाइबटीज़ यानि मधुमेय रोग से पीड़ित है | इसलिए लंबी उम्र के लिए इसका समय पर ईलाज करवाना और अपना ध्यान रखना बहुत जरूरी है इस रोग में लापरवाही ना करें दोस्तों क्योंकि यदि किसी कारण से आपको कोई घाव हो जाये या फिर किसी तरह का कोई बड़ा इलाज करवाना हो तो वहाँ इस बीमारी की वजह से आपको काफी भयंकर परिणाम देखने पड़ सकते हैं | 
गंभीर और लंबे समय तक कि समश्याओं में हृदय रोग, स्ट्रोक, क्रोनिक किडनी की विफलता, पैर अल्सर और आंखों को नुकसान शामिल है।
मधुमेह के कारण है या तो अग्नाशय पर्याप्त इन्सुलिन का उत्पादन नहीं करता या शरीर की कोशिकायें इंसुलिन को ठीक से जवाब नहीं करती। 

 मधुमेह के चार मुख्य प्रकार हैं:


Type 1 : इस तरह के डाइबिटीज में पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन करने के लिए अग्न्याशय पूरी तरह काम नही कर पाता है। इस रूप को पहले "इंसुलिन-आश्रित मधुमेह मेलाईटस" (आईडीडीएम) कहा जाता था, इसका कारण भी पता नही चलता है।

Type 2: इस तरह के डाइबटीज में इंसुलिन प्रतिरोध से शुरू होता है,  जैसे-जैसे रोग की प्रगति होती है, इंसुलिन की कमी भी विकसित हो सकती है।  इस फॉर्म को पहले "गैर इंसुलिन-आश्रित मधुमेह मेलेतुस" (एनआईडीडीएम) । इसका सबसे आम कारण अत्यधिक शरीर का वजन होना और पर्याप्त व्यायाम न करना है।

Type 3: इसे गर्भावधि मधुमेह कहते है और तब होता है जब मधुमेह के पिछले इतिहास के बिना गर्भवती महिलाओं को उच्च हाई शुगर का विकास होता है।

Type 4 : इसे सेकेंडरी डायबिटीज कहते है  इस प्रकार की डायबिटीज इलाज करने से ही सही हो सकता है जैसे की कुछ दवाईओं को बंद करने से, पिट्यूटरी  ग्लैंड का ट्यूमर का इलाज करने से।

कुछ घरेलू उपाय 


१)  खाने में यैसे चीजो का इस्तेमाल जिसमे शुगर का लेवल कम होता है, साथ ही साथ करेला का इस्तेमाल करे इसमे शुगर की मात्रा कम होती है तो इसका जूस या सब्जी के तौर में स्तेमाल कर सकते है।

२) खाली पेट आम , तुलशी या नीम के पत्ते को चबाने से शुगर लेवल में कंट्रोल किया जाता है।

३) रात में मेथी के दानों को पानी मे भिगो कर रखे सुबह पिये , इसके अलावा भिंडी को भी रात में पानी मे भिगोकर रखे सुबह पीने से डायबिटीज कंट्रोल रहता है।

४) दालचीनी या आँवले  को पीश ले और रोज पानी मे उबाल कर पीने से शुगर कंट्रोल में फायदा होता है।

५) नियमित रूप से भांग की एक पत्ती सुबह एक बादाम के साथ खाने से शुगर हमेशा नियंत्रण में रहेगी ।


तो दोस्तो आपको ये जानकारी कैसी लगी कृपया अपने सुझाव और कॉमेंट दे। साथ ही साथ शेयर करे।



0 comments:

Post a Comment